Posted on 30 May, 2020 06:40 pm

Likes - 0 153


गीतकार योगेश जी एक गीत के लिए 20 मुखड़े लिखते थे - संगीतकार निखिल कामत

संगीतकार निखिल कामत ने दिवंगत गीतकार योगेश जी को श्रद्धांजलि पेश की है, जिन्होंने योगेशजी के साथ कई गीतों की रचना की है। निखिल कामत कहते हैं गीतकार योगेशजी के साथ मेरा जुड़ाव वर्ष 1989 मेे हुआ था जब मुझे और मेरे साथी विनय को गीतों की रचना करने के लिए टी सीरीज़ से ब्रेक मिला था। हम आधी रात 12 बजे योगेशजी के घर गए थे क्योंकि हमें अपनी धुनों पर गीत लिखवाने के लिए एक गीतकार की तत्काल आवश्यकता थी। योगेशजी से मिलने पर वह बहुत विनम्र व्यक्ति थे और हमारी मदद करने के लिए सबसे ज्यादा तैयार थे और फिर हमारी टीम की शुरुआत हुई। योगेशजी के गीतों के साथ रिलीज़ हुई मेरी पहली फ़िल्म थी चंद्रा बरोट की "प्यार भरा दिल जिसका संगीत सुपरहिट हो गया और हमने" चोर और चांद ", दुलारा, बेवफा सनम, शोहरत, अंग्रेज़ी बाबू देसी मेम सहित कई निजी एल्बमों में एक साथ शानदार गाने बनाए।

उन्होंने टेलीविजन धारावाहिक टीचर के लिए "दूर मंज़िल है तेरी" और आनंद और रवि राय के लिए थोडा है थोडे की जरूरत है का शीर्षक गीत भी लिखा था। योगेशजी एक महान कवि और एक सरल व्यक्ति थे। जब हम एक साथ अंग्रेजी बाबू देसी मेम फिल्म के गीतो पर काम कर रहे थे, तो वे सुबह से रात तक एक रचना के लिए कम से कम 20 मुखड़े लिखते थे। उनमें कभी कोई अहंकार नहीं था और वह हमेशा मुस्कुराते रहते थे। वह हमेशा बहुत इन्नोवेटिव रहते थे और किसी भी रचना के लिए बहुत ही सरल गीत लिखते और उन्हें फिल्म की सिचुएशन को समझने की महारत थी। वह हमेशा हर गाने के लिए कम से कम 8 अंतरे लिख कर देते थे, जिससे कभी-कभी फाइनल अंतरे को चुनना मुश्किल हो जाता था क्योंकि सभी अच्छे होते थे।

उन्होंने जो कुछ भी लिखा था उसमें एक क्लास का स्पर्श था और उन्होंने अपने गीत में बहुत ही सुंदर हिंदी शब्दों का इस्तेमाल किया था और उन्हें ज़रुरत के मुताबिक़ उर्दू शब्दों के साथ मिला देते थे। उन्होंने हमें कभी हीन महसूस नहीं कराया हालांकि उन्होंने एस डी बर्मन, आर डी बर्मन, सलिल चौधरी जैसे दिग्गज संगीतकारों के साथ काम किया था। मैं हमेशा उन्हें याद करूंगा और मैंने अभी हाल ही में 19 मार्च 2020 को उन्हें जन्मदिन की शुभकामना दी थी। मैं हमेशा उन्हें याद करूंगा। हम उन्हें योगि दा कहते थे। उनकी आत्मा को शान्ति मिले। वह हमेशा अपने महान गीतों के साथ जीवित रहेंगे जो अमर हैं।

By Gaazi Moin