Posted on 27 Aug, 2019 12:50 pm

Likes - 0 34


हीरो राजन कुमार को मुंगेर के डीएम के हाथों

हीरो राजन कुमार कई बार यह साबित कर चुके हैं कि वह फिल्मी पर्दे के साथ साथ एक रियल हीरो भी हैं। उन्होंने कई बार अपनी वीरता और इंसानियत का परिचय दिया है। लोगों की जान बचाने की वजह से उन्हें शूरवीर अवॉर्ड जैसे पुरस्कारों से भी नवाजा जा चुका है। एक बार उन्होंने पानी में डूबती एक लड़की की जान भी बचाई थी। अब एक बार फिर राजन कुमार ने एक जख्मी महिला की मदद करके युवाओं को सड़क दुर्घटना में जख्मी होने वालों की सहायता करने के लिए प्रेरित किया है और उनके इस नेक कार्य की वज़ह से उन्हें सम्मानित भी किया गया। 26 अगस्त को उन्हें एक विशेष कार्यक्रम में सम्मानित किया गया। गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में अपना नाम दर्ज करा चुके चार्ली चैपलिन 2 के नाम से दुनिया भर में मशहूर राजन कुमार को मुंगेर बिहार के डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट के हाथों एक बेहद सम्मानित अवॉर्ड "ए गुड समारिटन" से नवाजा गया। मुंगेर के फोर्ट एरिया में डी एम के दफ्तर के करीब स्थित पंचायत सभागार में उन्हें यह सम्मान मिला।

आपको बता दें कि एक सड़क दुर्घटना मुंगेर बिहार में रहने वाली एक 45 वर्षीय महिला अंजना कुमारी के साथ हुई थी और उनके सर में गहरी चोट आई। उनके सर से खून बह रहा था। ऐसे में हीरो राजन कुमार वहां किसी फरिश्ते की तरह हाज़िर हुए, उन्होंने तमाशबीनों की तरह सिर्फ वो मनज़र नहीं देखा बल्कि तुरंत जख्मी महिला को वाहन के जरिए अस्पताल पहुंचाया और चिकित्सक के द्वारा उनका उचित इलाज करवाया। यह मामला पिछले माह 6 जुलाई का है। कुशवाहा भवन परिसर, मुंगेर में स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर तिरंगा फहराने के बाद राजन कुमार का नागरिक अभिनंदन किया गया था। इस अवसर पर बाफ्टा के कलाकारों ने राष्ट्रीय गीत भी गाया था। राजन कुमार का कहना है कि किसी हादसे के शिकार इंसान को तुरंत मेडिकल हेल्प मिलनी चाहिए और यह काम लोग बिना किसी भय या बिना किसी सोच के करें। इस महिला की जान बचाने में मुंबई में महाराष्ट्र स्टेट रोड सेफ्टी पेट्रोल से प्राप्त प्रशिक्षण उन्हें बहुत काम आया। उस ली गई ट्रेनिंग की वजह से मैं दुर्घटनाग्रस्त महिला को तुरंत अस्पताल लेकर गया जहां प्राथमिक उपचार के बाद उन्हें ठीक किया गया। उधर अंजना कुमारी का कहना है कि अगर मै आज बच पाई हूं तो राजन कुमार जैसे नेक इंसान की वजह से, क्योंकि उन्होंने सही समय पर मेरा उचित उपचार करवाया ना केवल मुझे टाइम पर अस्पताल पहुंचाया बल्कि देर रात तक मेरी दवाइयों का प्रबन्ध भी किया। मै और मेरा पूरा परिवार ज़िन्दगी भर राजन कुमार का आभारी रहेगा।"

चार्ली चैपलिन 2 के नाम से दुनिया भर में मशहूर और हिंदी फिल्म नमस्ते बिहार के हीरो के रूप में चर्चा में रहे राजन कुमार के इस हौसले और जज्बे भरे कदम को हम सलाम करते हैं जिन्होंने युवाओं के लिए एक मिसाल पेश की है। यह भी राजन कुमार के कई उललेखनीय कारनामों में से एक है। डिस्ट्रिक्ट ट्रांसपोर्ट ऑफिस के रमाशंकर ने कहा कि "ए गुड समारीटन" के अवॉर्ड से राजन कुमार को डी एम के हाथों नवाजा गया। उनकी हिम्मत की वजह से सड़क दुर्घटना में जख्मी हुई महिला की जान बच पाई।

रमाशंकर ने आगे कहा कि अक्सर सड़क एक्सिडेंट होने पर लोग या तो विडिओ बनाने लगते हैं या फिर कानूनी झमेलों से बचने के लिए जख्मी की कोई मदद नहीं करते। हालांकि अगर लोग पुलिस या अस्पताल को सिर्फ सूचित भी कर दें या कोई उन्हें अस्पताल तक ले जाएं तो उस शख्स की जान बच सकती है और अब तो ऐसा नियम है कि जख्मी को अस्पताल पहुंचाने वाले से कोई पूछताछ नहीं होगी, उस जख्मी का इलाज करना प्राथमिकता है। राजन कुमार ने उस जख्मी महिला की जान बचाकर एक बड़ा कारनामा अंजाम दिया है इसलिए उन्हें इस पुरस्कार से डी एम राजेश मीणा जी और एस पी की उपस्थति में दिया गया। उन्हें सर्टिफिकेट और मोमेंटो से नवाजा गया।"

राजन कुमार ने कहा है कि बिहार सरकार की ओर से इस तरह का सम्मान मिलना मेरे लिए गर्व की बात है। मै तमाम लोगों से अपील करूंगा कि हादसे किसी के साथ भी हो सकते हैं इसलिए हादसे के शिकार लोगों को बचाने, उन्हें अस्पताल पहुंचाने में हिचकिचाएं ना बल्कि इसे अपना फर्ज समझ कर पूरा करें।"