Posted on 07 Sep, 2019 05:20 pm

Likes - 1 21


फिल्म समीक्षा : निर्देशक सप्तस्वा बसु की एक इंगेजिंग थ्रिलर है

फिल्म समीक्षा नेटवर्क, सेंसर यू / ए

अवधि 152 मिनट, निर्देशक - सप्तस्वा बसु, निर्माता - नियो स्टूडियोज (प्रीति बसु और सप्तस्वा बसु), कलाकार सास्वत चटर्जी इत्यादि, रेटिंग 3.5 स्टार्स। बंगाली सिनेमा का अपना जादू होता है। उनकी कहानियां, उनका निर्देशन और उनका संगीत दर्शकों को अभिभूत कर देता है। निर्देशक सप्तस्वा बसु की बंगाली फिल्म नेटवर्क भी कला, निर्देशन, अभिनय और संगीत का ऐसा अनोखा मिश्रण है कि आप यह फिल्म देखते समय एक सेकंड के लिए भी आंख नहीं झपका सकते। इसका कंटेंट और इसकी कहानी आपको सीट से बांध कर रखती है और इसका सारा क्रेडिट फिल्म के युवा निर्देशक सप्तस्वा बसु को जाता है। हां एक्टिंग के मामले में सास्वत चटर्जी की जितनी भी प्रशंसा की जाए कम है, एक तरह से पूरी फिल्म उन्हीं के कंधो पर है और क्या गजब का अभिनय किया है उन्होंने। सास्वत चटर्जी हालांकि कई बंगाली फिल्मों में अपने अभिनय का जौहर दिखा चुके हैं, साथ ही सुजय घोष की फिल्म कहानी में भी अपनी भूमिका से बॉलीवुड में अपनी एक छाप छोड़ी लेकिन उनकी यह फिल्म एक यादगार मूवी कही जा सकती है जिसमें उनके अभिनय का जादू सर चढ़कर बोलता है।

यह फिल्म दरअसल मीडिया इंडस्ट्री की पृष्ठभूमि पर एक बेहतरीन थ्रिलर है। इस फिल्म की कहानी कुछ यूं है। अभिजीत गांगुली (सास्वत चटर्जी द्वारा अभिनीत) एक बेहतरीन डायरेक्टर है, जिन्होंने लंबे समय से अपनी प्रसिद्धि खो दी है। अपनी बेटी की मृत्यु के बाद वह टूट से गए हैं, जिन्हें कोई नहीं पहचानता। जब उन्हें अपने गंभीर रोग के बारे में पता चलता है तो वह और दुखी हो जाते हैं अब उनकी जिंदगी एक डेढ़ वर्ष के लिए ही बाकी रहती है, तो वह अपने सभी संसाधनों का इस्तेमाल करके एक नई फिल्म बनाने और अपनी खोई हुई प्रसिद्धि हासिल करने के लिए वापसी करने का फैसला करते हैं। वह राज और श्रेया सहित प्रतिभाशाली अभिनेताओं और प्रोडकशन टीम के एक समूह के साथ मिलकर काम करते हैं, जिन पर वह बहुत भरोसा करते हैं। कहानी में मोड़ तब आता है जब इन्हें सहयोगियों द्वारा धोखा दिया जाता है और वह बर्बाद हो जाते हैं। वह एक रियलिटी टीवी शो "देयर लाइफ" नाम से एक अनोखा शो बनाते हैं, जो सेलिब्रिटी लाइफस्टाइल से संबंधित है। इस शो के माध्यम से, वह उन व्यक्तियों से बदला लेना शुरू करते हैं, जिन्होंने उन्हें धोखा दिया था।

फिल्म में अभिजीत गांगुली के रूप में सास्वत चटर्जी, सब्यसाची चक्रवर्ती के रूप में अरिंदम चक्रवर्ती, श्रेया के रूप में रिनी घोष, राज के रूप में इंद्रजीत मजुमदार, सुभो के रूप में कार्तिकेय त्रिपाठी ,भास्कर बनर्जी सुब्रत के रूप में, पूजा के रूप में ईशानी घोष, प्रियंका के रूप में सायोनी घोष, अर्जुन चटर्जी के रूप में सप्तर्षि रॉय, मिस्टर अग्रवाल के रूप में अक्षय कपूर, जॉय के रूप में अनिंदया चटर्जी, प्रेरणा के रूप में दर्शन बानिक और राणा बसु ठाकुर मिस्टर बोस के रूप में प्रभावी अंदाज में काम किया है।

फिल्म के निर्माता नियो स्टूडियोज़ के प्रीति बसु और सप्तस्वा बसु हैं जबकि इसे रिनी घोष और सप्तास्वा बसु ने लिखा है। संगीतकार डब्बू, राज दी, अविराज और चिरंतन हैं। कहानी, डायरेक्शन के अलावा फिल्म का संगीत भी कहानी के अनुसार है और शानदार है। फिल्म का बैकग्राउंड म्यूजिक भी एक थ्रिलर फिल्म की तरह है। कुल मिलाकर यही कहा जा सकता है कि सिनेमा प्रेमियों के लिए यह फिल्म एक बेहतरीन मूवी है। इंग्लिश सबटाइटल्स के साथ इसे देखने में आपको भाषा की कोई समस्या भी नहीं होगी। बॉलीवुड में इन दिनों साउथ की या हॉलीवुड फिल्मों के रीमेक अधिक बन रहे हैं ऐसे में बंगाली सिनेमा अपने ओरिजनल कंटेंट की वजह से आज भी दर्शकों का दिल जीत रहा है। इस फिल्म को आप अवश्य देखें। रेटिंग्स साढ़े तीन स्टार्स।