Posted on 07 Sep, 2019 06:20 pm

Likes - 1 25


फिल्म समीक्षा : सोशल ईशू पर बेस्ड सेंसेटिव सिनेमा है

फिल्म समीक्षा फिल्म फेयर इन लव, सेंसर यू / ए, अवधि 119 मिनट, लेखक निर्देशक - ए के मिश्रा, निर्माता - आशुतोष मिश्रा, बैनर विज़न कॉर्पोरेशन लिमिटेड, कलाकार फिरोज खान, कनुप्रिया शर्मा, डॉली आर्या, अश्विन धर इत्यादि, रेटिंग 2.5 स्टार्स।

६ सितम्बर को रिलीज हुई लेखक निर्देशक ए के मिश्रा की सोशल ड्रामा फिल्म फेयर इन लव अपने आप में इसलिए अनोखी और अहम फिल्म है क्योंकि यह समाज के एक डार्क साइड को उजागर करती है। सोशल ईशू पर बेस्ड इस सेंसेटिव सिनेमा में बांझ औरतों के प्रति समाज की सोच को दिखाया गया है। 

लेखक निर्देशक ए के मिश्रा की इस फिल्म में समाज की ऐसी महिलाओं के दर्द को बयान किया गया है जो गर्भवती नहीं हो पातीं. समाज, उनका पति, उसके ससुराल वाले ऐसी महिला के साथ किस तरह का सुलूक करते हैं, इस फिल्म में यही दिखाने का प्रयास किया गया है. फिल्म में भले ही कई नए कलाकार हैं मगर यह कई अहम सवाल उठाती है.फिल्म में फ़िरोज़ खान, कनुप्रिया शर्मा, अश्विनी धार और डॉली आर्या ने अहम भूमिका निभाई है. 

इस फिल्म की कहानी एके मिश्र के उपन्यास 'अल्पना' पर बेस्ड है. जो महिलाऐं माँ नहीं बन पाती हैं उन की समस्याओं को इस फिल्म में दिखाने की कोशिश की गई है. यह एक बोल्ड और सेंसिटिव सब्जेक्ट है. अक्सर ऐसी महिलाओं को बाँझ कह दिया जाता है, जबकि अक्सर मामलों में पुरुष इसकी वजह होते हैं. इसी मुद्दे को इस फिल्म में उठाया गया है. कहानी दो गहरे दोस्तों की है. एक दुसरे को मुसीबत में हेल्प करने के चक्कर में कुछ और हो जाता है. यह दोनों लव में फेयर हैं या नहीं? इस के लिए आपको फिल्म देखनी पड़ेगी.

इस फिल्म का कंटेंट नया है, थीम दर्शकों को प्रभावित करती है. कनुप्रिया शर्मा ने इसमें एक बाँझ औरत का रोल निभाया है. उन्होंने फिल्म 'पीकू' में एक छोटी सी भूमिका निभाई थी. देखा जाए तो यह फिल्म उनकी भूमिका के इरदगिर्द घूमती है जिसे उन्होंने बखूबी निभाया है। इसमे अश्विनी धार भी एक अहम् रोल कर रहे हैं, जिन्होंने पद्मावत में भी एक रोल किया था. फिल्म में एक बड़ा सोशल मैसेज भी है। फिल्म समाज की सोच बदलने की जरूरत का मैसेज देती है. 

कुछ अलग देखने वाले दर्शकों के लिए यह फिल्म एक उपहार समान है। फिल्म का म्यूज़िक बेहद अच्छा है। रेटिंग ढाई स्टार्स।